Wednesday, 20 October 2021, 3:13 AM

भारतीय कलाजगत में समीक्षा का अभाव, कला की समाज में कैसे हो पैठ ?- शुकदेव श्रोत्रिय

संबंधित ख़बरें

आपकी राय


2368

पाठको की राय

मूमल के लिए प्रत्येक पाठक
एक विचार है, बाजार नहीं


समय-समय पर कला जगत संबंधी 

महत्वपूर्ण समाचार और 

जानकारियां पाने के लिए 

हमें ई- मेल करें।

moomalnews@gmail.com

फोन  9928487677